ऑप्शंस चेन अनालिसिस के बारे में यह बाते जरूर जान ले।


सफलतापूर्ण ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए ऑप्शंस चेन अनालिसिस के बारे में यह बाते जरूर जान ले।

ऑप्शन चेन अनालिसिस (Option Chain Analysis) स्टॉक ट्रेडर्स के बीच बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यह शेयर बाजार का अनुमान लगाने में बहुत महत्वपूर्ण जानकारी देता है और यह सभी ट्रेडिंग रणनीतियां (Strategies) बनाने के लिए बहुत उपयोगी इनपुट हैं। लेकिन ऑप्शन चेन अनालिसिस करना हर एक ट्रेडर के लिए आसान नहीं होता क्योंकि NSE में सैकड़ों कॉन्ट्रैक्ट्स हैं और प्रत्येक कॉन्ट्रैक्ट की समीक्षा करना बहुत मुश्किल है। यदि आप ऐसा करने का प्रयास करते हैं तो आप समय बर्बाद कर देंगे। ऐसे समय में ऑप्शन चेन अनालिसिस बहुत उपयोगी साबित होता है । यदि आप ऑप्शंस ट्रेडिंग में शुरुआत कर रहे हैं तो आपको ऑप्शन चेन अनालिसिस (Option Chain Analysis) सीखना बहुत जरुरी है। हमने इस ब्लॉग में ऑप्शन चेन अनालिसिस के बारे में जानकारी दी है और यह ब्लॉग आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगा ।


ऑप्शन चेन अनालिसिस (Option Chain Analysis)

ऑप्शन चेन के डेटा को पढ़ना, समझना, उसका विश्लेषण करना और सर्वोत्तम ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीति (Strategy) को तय करने के लिए इस रीडिंग का उपयोग करना ऑप्शन चेन अनालिसिस (Option Chain Analysis) कहलाता है। ऑप्शन चेन को कैसे पढ़ा जाए यह समझना आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है । जब आप ऑप्शन में व्यापार कर रहे होते हैं, तो ऑप्शन चेन आपको वह सभी डेटा देती है जो आप चाहते हैं। कई व्यापारी ऑप्शन ट्रेडिंग में पैसा गवा देते हैं क्योंकि वे ऑप्शन चेन का विश्लेषण करना नहीं जानते । ऑप्शन ट्रेडर और कॅश मार्केट व्यापारियों के लिए ऑप्शन चेन एक बहुत ही उपयोगी उपकरण है। ऑप्शन चेन अनालिसिस सीखने के लिए आइए पहले समझें कि ऑप्शन चेन क्या है?


ऑप्शन चेन (Option Chain) क्या है?

एक सिक्योरिटी के लिए सभी उपलब्ध ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट की सूची (List) को ऑप्शन चेन कहते है। इसे ऑप्शन मैट्रिक्स के रूप में भी जाना जाता है। यह दी गई मैचुरिटी अवधि के भीतर एक प्रायमरी एसेट के लिए स्ट्राइक मूल्य (Strike Price), सभी लिस्टेड पुट (PUT), कॉल (CALL), उनकी (Expiry) , वॉल्यूम (Volume) और मूल्य निर्धारण (Pricing) की जानकारी दिखाता है। ऑप्शन चेन क्वोट (Quote ) और कीमत के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करती है और यह ऑप्शन सीरीज से अलग है, जो उपलब्ध स्ट्राइक कीमतों या समाप्ति तिथियों को सूचित करती है। आइये देखते है NSE वेबसाइट पर ऑप्शन चेन कैसे दी गयी है।


NSE (National Stock Exchange) ऑप्शन चेन

  • NSE ऑप्शन चेन को समाप्ति तिथि (Expiry Date) द्वारा वर्गीकृत किया गया है और कॉल (CALL) और पुट (PUT) द्वारा खंडित (Categories) किया गया है।

  • ऑप्शन चेन फ्रेम में, स्ट्राइक प्राइस मध्यभाग में होता हैं [ग्रीन बॉक्स द्वारा दर्शाया गया]

  • कॉल (CALL) ऑप्शन चेन के बाईं ओर हैं [पीले बॉक्स द्वारा दर्शाया गया]

  • पुट (PUT) ऑप्शन चेन के दाईं ओर हैं [ऑरेंज बॉक्स द्वारा ऑप्शन चेन]

  • NSE ऑप्शन चेन के दोनों तरफ हरे तीर (Upside Arrow) का कॉलम [दोनों तरफ गुलाबी बक्से द्वारा दर्शाया गया] दर्शाता है कि शेयर/स्टॉक पिछले दिन की तुलना में अधिक कीमत पर कारोबार कर रहा है।

  • ऑप्शन चेन डेटा का विश्लेषण करने के लिए, आपको NSE की ऑप्शन चेन ढूंढनी होगी।


ऑप्शन चेन खोजने के लिए आप निचे दी गयी स्टेप्स के अनुसार जा सकते है

  • अपने कंप्यूटर पर वेब ब्राउजर खोलें, Option chain NSE टाइप करें और सर्च सिंबल पर क्लिक करें ।

  • जैसा कि नीचे दी गई इमेज में दिखाया गया है, एनएसई के ऑफिसियल पेज पर क्लिक करें।

  • ऑप्शन चेन एनएसई इंडिया (Option Chain NSE India ) पर क्लिक करने के बाद, ऑप्शन चेन की विंडो दिखाई देगी जैसा कि नीचे दी गई इमेज में दिखाया गया है:


यहां आप देखेंगे कि चुनने के लिए कई विकल्प हैं। हर विकल्प को आसानी से समझने के लिए हमने उनको अलग अलग रंग के बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया है। अब प्रत्येक विकल्प को समझते हैं:



गुलाबी बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया गया ड्रॉप-डाउन मेनू

इस पर क्लिक करके आप इनमें से किसी एक से ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को प्रदर्शित करना चुन सकते हैं:

निफ्टी (NIFTY), फीननिफ्टी (FINNIFTY), बैंकनिफ्टी (BANKNIFTY)


लाल बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया गया ड्रॉप-डाउन मेनू

इस ड्रॉप-डाउन मेनू से आप विभिन्न कंपनी के स्टॉक में से एक के लिए ऑप्शन चेन प्रदर्शित करने के लिए चुन सकते हैं। इसकी बेहतर समझ के लिए निचे दी गयी इमेज देखें:



पीले बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया गया ड्रॉप-डाउन मेनू

इस ड्रॉप-डाउन मेनू से आप किसी विशेष समाप्ति तिथि (Expiry Date) के स्टॉक को प्रदर्शित करने के लिए चुन सकते हैं।


हरे बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया गया ड्रॉप-डाउन मेनू

इस ड्रॉप-डाउन मेनू से आप किसी विशेष स्ट्राइक मूल्य के ऑप्शन प्रदर्शित कर सकते हैं।


नीले बार (Blue Bar) में दिखाये गए कॉलम का क्रम

स्ट्राइक (Strike), सिंबल (Symbol), लास्ट (Last), चेंज (Change), बिड (Bid), आस्क (Ask), वॉल्यूम (Volume) और ओपन इंटरेस्ट (OI)। प्रायमरी स्टॉक की तरह, प्रत्येक ऑप्शन चेन का अपना सिंबल होता है । अलग-अलग समाप्ति तिथियों के लिए एक ही स्टॉक पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट में अलग-अलग ऑप्शन सिंबल होते हैं। कॉल्स, पुट्स, ओआई (OI), चेंज इन ओआई (CHNG IN OI), इप्लाइड वोलैटिलिटी (IV), एलटीपी (LTP), सीएचएनजी (CHNG), बिड क्वांटिटी (BID QTY), बिड प्राइस (BID PRICE), आस्क क्वांटिटी (ASK QTY), आस्क प्राइस (ASK PRICE) स्ट्राइक प्राइस।


निफ्टी ऑप्शन चेन विश्लेषण (NIFTY Option Chain Analysis)

निफ्टी का मतलब नेशनल स्टॉक एक्सचेंज फिफ्टी है और यह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का इक्विटी बेंचमार्क इंडेक्स है। इसे एनएसई द्वारा 1996 में पेश किया गया था, और इसे कई लोग निफ्टी 50 और सीएनएक्स निफ्टी भी कहते हैं। निफ्टी 50 में एनएसई में 24 क्षेत्रों में सक्रिय रूप से कारोबार करने वाली लगभग 1600 कंपनियों में से शीर्ष 50 के शेयर शामिल हैं।


निफ्टी ऑप्शन चेन देखने के लिए नीचे दिए गए इमेज मे दिखाए गए हल्के-हरे रंग के बॉक्स द्वारा दर्शाये गए ड्रप-डाउन मेनू पर क्लिक करें:



निचे दी गयी इमेज में, पीले बॉक्स द्वारा दर्शायी गयी कीमत निफ्टी के वर्तमान मूल्य को दर्शाता है।


उपरोक्त ऑप्शन चेन विभिन्न स्ट्राइक के निफ्टी ऑप्शंस से संबंधित है। यहाँ इस इंडेक्स की ऑप्शन चेन को सरल बनाने का तरीका बताया गया है। ऑप्शन चेन व्यापारी को प्रत्येक विशिष्ट स्ट्राइक की तरलता (Liquidity ) और डेप्थ का अनुमान लगाने की अनुमति देती है। ऑप्शन चेन निष्पादित मूल्य (Executed price) का प्रतिनिधित्व करती है, वास्तविक समय (Real Time) आस्क प्राइस, बिड प्राइस, आस्क क्वांटिटी, और बिड क्वांटिटी देती है। जब आप इन्हें जोड़ते हैं, तो आपको प्रत्येक स्ट्राइक में गहराई (Depth) और तरलता (Liquidity) का एक स्पष्ट दृष्टिकोण मिलता है और उस रणनीति की समझ भी होती है जिसे लागू करने की आवश्यकता होती है। निफ्टी ऑप्शन चेन को इंडेक्स में तेज चाल (Sharp Moves) या ब्रेकआउट की अग्रिम चेतावनी प्रणाली के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। बड़े संस्थान इंडेक्स ऑप्शंस में अधिक सक्रिय होते हैं और उनका दैनिक ट्रेडिंग में 70% से अधिक का योगदान होता है। किसी खास स्ट्राइक के ओपन इंटरेस्ट (OI) में अचानक बढ़ोतरी या स्ट्राइक पर ओपन इंटरेस्ट का कम होना निफ्टी में फोकस्ड एक्शन का संकेत हो सकता है। यह व्यापारियों के लिए एक उपयोगी सूचक हो सकता है। व्यापारी इस ऑप्शन चेन का उपयोग मनी कॉल और पुट के गहरे आउट ऑफ एक्शन का अनुमान लगाने के लिए कर सकते हैं। आम तौर पर, डीप ओटीएम (OTM) कॉल और पुट की गतिविधि में अचानक वृद्धि उस दिशा में एक ब्रेकआउट का संकेत है। अपने बड़े नेटवर्क और हाई-एंड रिसर्च वाले बड़े संस्थान निफ्टी में दूसरों से काफी पहले ट्रेंड देखते है । आप ऑप्शन चेन के माध्यम से ऐसे संकेत प्राप्त कर सकते हैं। ऑप्शन चेन से इम्प्लाईड वोलैटिलिटी की जानकरी प्राप्त होती है और इन निष्कर्षों को प्रमाणित करने के लिए इम्प्लाइड वोलैटिलिटी का उपयोग किया जा सकता है । इम्प्लाईड वोलैटिलिटी का महत्व और उसे नापने के तरीके जानने के लिए हमारा यह Implied Volatility का ब्लॉग जरूर पढ़े।


निचे दी गयी इमेज को देखे, इसमें आपको ऑप्शन चैन दिखेगी जिसमें कॉल्स और पुट के सेक्शन में गुलाबी रंग के बॉक्स द्वारा हाइलाइट किया हुआ एरिया दिखाई दे रहा होगा। आइए इसे समझते हैं:


यह आपको इन-द-मनी (ITM) और आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) ऑप्शंस की एक त्वरित और तेज़ झलक देता है। इसमें हलके पीले रंग में दिखाई गयी स्ट्राइक्स आईटीएम (ITM) ऑप्शंस है। जो स्ट्राइक्स पिले एरिया से बाहर है वह ओटीएम (OTM) ऑप्शंस हैं। यह नियम कॉल और पुट दोनों पर लागू होता है।


BANKNIFTY ऑप्शंस चैन अनालिसिस

BANKNIFTY ऑप्शंस चैन अनालिसिस को समझने से पहले आइए समझते हैं कि BANKNIFTY क्या है। बैंक निफ्टी बैंकिंग क्षेत्र के १२ सबसे अधिक तरल और बड़े पूंजीकृत शेयरों का प्रतिनिधित्व करता है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में व्यापार करते हैं। यह निवेशकों और मार्केट ब्रोकेर्स को एक बेंचमार्क प्रदान करता है जो भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के पूंजी बाजार के प्रदर्शन को दर्शाता है। BANKNIFTY ऑप्शंस चैन अनालिसिस उसी तरह से किया जा सकता है जैसे NIFTY का ऑप्शंस चैन अनालिसिस किया जाता है। इस ब्लॉग में ऊपर बताए गए तरीके से ही BANKNIFTY का भी ऑप्शंस चैन अनालिसिस करें।

FINNIFTY ऑप्शंस चैन अनालिसिस

FINNIFTY निफ्टी फाइनेंशियल सर्विसेज इंडेक्स का संक्षिप्त नाम है जो बैंकों, बीमा, हाउसिंग फाइनेंस, NBFC, अन्य वित्तीय सेवा कंपनियों आदि सहित भारतीय वित्तीय सेवा कंपनियों के प्रदर्शन को ट्रैक करता है। इंडेक्स में अधिकतम २० स्टॉक्स होते है और एक स्टॉक का वजन (Weightage ) इसके फ्री-फ्लोट बाजार पूंजीकरण पर आधारित होता है। FINNIFTY साप्ताहिक (वीकली) ऑप्शंस के साथ साप्ताहिक फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट वाला पहला इंडेक्स डेरिवेटिव है।


इसप्रकार आप ऑप्शन चैन का एनालिसिस या विश्लेषण कर अपने ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी को निश्चित कर सकते है। ऑप्शन चेन ऑप्शन ट्रेडर्स के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। हम आशा करते है की यह ब्लॉग आपको अच्छ लगा होगा और आपको उपयुक्त साबित हुआ होगा ।

257 views0 comments

Recent Posts

See All