प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजी - जानिये हिंदी में (Protective Put Strategy In Hindi)



यदि आप लंबे समय से स्टॉक, इंडेक्स या ईटीएफ में निवेश कर रहे हैं, तो आपने देखा होगा कि बाजार ज्यादातर समय अस्थिर महसूस करता है। इसलिए आपको स्टॉक में गिरावट का डर हो सकता है। लेकिन साथ ही, ये सिक्युरिटीज आपकी लंबी अवधि की होल्डिंग हैं और आप इन्हें बेचना भी नहीं चाहते हैं। ऐसे में आप प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजी (Protective Put Strategy) पर विचार कर सकते हैं जिसे मैरिड पुट (Married Put) भी कहा जाता है। इस ब्लॉग में, हम प्रोटेक्टिव पुट के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं जो कि ऑप्शन ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Option Trading Strategies) में से एक है। इस रणनीति का उपयोग पुट की खरीद के माध्यम से लॉन्ग स्टॉक पोजीशन के निगेटिव जोखिम को कम करने के लिए किया जाता है। तो चलिए इसके बारे में पूरी जानकारी लेते है।


प्रोटेक्टिव पुट (Protective Put)


प्रोटेक्टिव पुट या मैरिड पुट (Married Put) तब होता है जब आप किसी खास कीमत से नीचे लॉन्ग स्टॉक पोजिशन के जोखिम को पूरी तरह से कम करने या खत्म करने के प्रयास में, स्टॉक के कम से कम सौ शेयरों के रिस्क के खिलाफ लॉन्ग पुट ऑप्शन को खरीदते हैं। आप पुट ऑप्शन को खरीदने के लिए एक प्रिमियम का भुगतान करते हैं, लेकिन आप इसे अपने स्टॉक, इंडेक्स या ईटीएफ के लिए बीमा खरीदने के रूप में देख सकते हैं, जिसे अंडरलाइंग भी कहा जाता है। यदि कीमत गिरती है तो पुट नुकसान के खिलाफ सुरक्षा भी प्रदान करता है और आपके स्टॉक, इंडेक्स या ईटीएफ की अपसाइड क्षमता को सीमित नहीं करता है।


प्रोटेक्टिव पुट (Protective Put) आसान स्ट्रेटेजी है और इसमें आपके स्वामित्व वाले शेयरों के प्रत्येक १०० शेयरों के लिए एक पुट ऑप्शन खरीदना शामिल है। पुट ख़रीदना आपको अपने स्टॉक, इंडेक्स या ईटीएफ को एक निर्धारित मूल्य पर बेचने का अधिकार देता है जिसे स्ट्राइक प्राइस अप टू एक्सपायरी कहा जाता है। यदि आपके पास स्टॉक के सौ शेयर हैं और आप उन शेयरों के खिलाफ पुट खरीदते हैं तो आप पुट के स्ट्राइक मूल्य के बराबर अधिकतम नुकसान को प्रभावी रूप से लॉक कर देते हैं, क्योंकि सबसे खराब स्थिति में अगर स्टॉक की कीमत शून्य हो जाती है तो आप आपके द्वारा खरीदे गए पुट के स्ट्राइक प्राइस पर अपने शेयर बेचने के लिए सक्षम होंगे। आपको अपने शेयर का बिक्री प्राइस और बेचने की समयावधि तय करने की आवश्यकता है।


प्रोटेक्टिव पुट (Married Put) कैसे काम करता है?


एक्सपायरी के बाद, यदि आपका लॉन्ग पुट-इन-द-मनी (ITM) है तो लॉन्ग पुट अपने आप प्रयोग में आ जाएगा और आप अपने शेयरों को पुट के स्ट्राइक प्राइस पर प्रभावी ढंग से बेच सकेंगे।


यदि लॉन्ग पुट आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) है तो पुट बेकार हो जाएगा और आप पुट के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम को खो देंगे लेकिन आप अपने लॉन्ग शेयर रख सकते है।


अब असाइनमेंट जोखिम के संबंध में, प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजीस (Protective Put Strategy) में कोई शॉर्ट ऑप्शन पोजीशन शामिल नहीं है। तो कोई असाइनमेंट जोखिम भी नहीं होगा।


इस तरह से एक्सपायरी के समय प्रोटेक्टिव पुट (Protective Put) भी एक्सपायर जाता है।


उदाहरण के साथ प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजी (Protective Put Strategy) को समझते है,


XYZ स्टॉक के अपने १०० शेयरों की सिक्युरिटी के लिए आउट-ऑफ-द-मनी पुट का उपयोग करने का एक उदाहरण यहां दिया गया है। एक पुट आउट-ऑफ-द-मनी होता है जब स्ट्राइक मूल्य मौजूदा अंडरलाइंग सिक्यूरिटी के प्राइस से कम होता है।


यदि कोई शेयर वर्तमान में ६३ रुपये पर कारोबार कर रहा है, तो आप २ रुपये का ६० स्ट्राइक पुट खरीदते हैं, और मान लें कि यह ३० दिनों में समाप्त हो जाता है। यह आपको ३० दिनों के लिए अपने स्टॉक को ६० रुपये प्रति शेयर पर बेचने का अधिकार देता है, चाहे कीमत कितनी भी कम क्यों न हो जाए। समाप्ति से पहले, स्टॉक और ऑप्शन दोनों एक कीमत के आसपास घूमेंगे।


यदि ३० दिनों के बाद स्टॉक पुट स्ट्राइक प्राइस से अधिक है तो आपके नुकसान की गणना करना आसान है। पुटऑप्शन समय सीमा समाप्त हो जाने पर एक्सपायर हो जाता है। तो आपने अपने द्वारा भुगतान किए गए २ रुपये खो दिए हैं जो प्रत्येक पुट ऑप्शन के लिए २०० रुपये के बराबर है। इस समय सीमा के दौरान स्टॉक ने जो कुछ भी किया, उसके २ रुपये के नुकसान का अनुमान लगाकर, आपको अपने खाते के लिए शुद्ध लाभ और हानि होगी। उदाहरण के लिए, यदि XYZ ६३ रुपये से बढ़कर ७० रुपये हो जाता है तो ५ रुपये (या १०० शेयरों के लिए ५०० रुपये) के शुद्ध लाभ के लिए स्टॉक लाभ २ रुपये याने ऑप्शन प्रीमियम (७-२=५) से ७ रुपये कम है।


मान लीजिए ३० दिन बाद एक्सपायरी पर स्टॉक की कीमत ५५ रुपये है। हो सकता है कि आपने स्टॉक में ८ रुपये का नुकसान किया हो लेकिन पुट ऑप्शन अब ५ रुपये का है जो आपको ३ रुपये का ऑप्शन लाभ देता है। यहां ५ रुपए के बजाय 3 रुपए का लाभ है क्योंकि आपने पुट के लिए २ रुपए का भुगतान किया है। ऑप्शन के स्टॉप लॉस को ध्यान में रखते हुए आपका पूरा नुकसान ८ रुपये के बजाय ५ रुपये है, लेकिन यहां सकारात्मक पक्ष यह है कि ये ५ रुपये अधिकतम है जो आप खो सकते है। एक्सपायरी पर, पुट का प्रयोग किया जाएगा यदि वे १ पैसे से भी इन-द-मनी हैं और आपके शेयर ६० रुपये में बेचे जाएंगे।


अगर स्टॉक स्ट्राइक प्राइस से काफी नीचे चला जाता है तो देखते हैं कि क्या होता है। मान लीजिये की कीमत ६३ रुपये से गिरकर २५ रुपये प्रति शेयर पर आ गई है। यह १०० शेयरों पर ३८ रुपये का नुकसान है लेकिन ६० स्ट्राइक प्रोटेक्टिव पुट (Protective Put) अब इन-द-मनी है और इसकी कीमत ३५ रुपये है। पुट के ३५ रुपये मूल्य के साथ अपने ३८ रुपये के स्टॉप लॉस को मिलाकर, आपको केवल 3 रुपये का ही नुकसान होता है। ३ रुपये का नुकसान और २ रुपये जो आपने पुट विकल्प के लिए चुकाए हैं इनको मिलाकर आपको कुल ५ रुपये का नुकसान होता है जो कि ५०० ​​रुपये प्रति १०० शेयर है। अगर आपने यहां प्रोटेक्टिव पुट (Married Put) नहीं खरीदा होता तो आपका नुकसान बहुत बड़ा होता।

प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजी (Protective Put Strategy) के नुकसान


एक्सपायरी-ब्रेक-ईवन-प्राइस, स्टॉक का खरीद मूल्य और पुट के लिए भुगतान किये गए प्रीमियम का टोटल है। इसलिए प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रैटेजी (Protective Put Strategy) के बारे में एक बुरी बात यह है कि, चूंकि आप उस डाउनसाइड प्रोटेक्शन के लिए भुगतान कर रहे हैं, इसलिए आप अपने लॉन्ग स्टॉक पोजीशन के ब्रेक-ईवन मूल्य को बढ़ा रहे हैं।


तो अब अगर आप लाभ तो स्टॉक की कीमत ब्रेक-ईवन तक बढ़ने की आवश्यकता है, जबकि यदि आप केवल स्टॉक का एक हिस्सा खरीदते हैं तो आपको लाभ हासिल करने के लिए इसकी कीमत अपने मौजूदा स्तर से बढ़ाने की जरूरत है।


चूंकि पुट की लागत आपके लंबे शेयरों के ब्रेक-ईवन मूल्य को बढ़ाती है, इसलिए आपको शेयरों की कीमत बढ़ने का इंतजार करना होता है ताकि आप लाभ कमा सकें और इसलिए आपके पास इस स्ट्रेटेजी से पैसा बनाने का ५०% से कम मौका है।


हालांकि प्रोटेक्टिव पुट स्ट्रेटेजी (Protective Put Strategy) ब्रेक ईवन मूल्य को बढ़ाता है, लेकिन यह निश्चित रूप से नुकसान को सीमित करता है। एक प्रोटेक्टिव पुट खरीदने के लिए आपको केवल स्टॉक के शेयर खरीदने से अधिक धन की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन यह अपनी क्षमता से अधिक अपनी सारी पूंजी खोने से बचने के लिए प्रोटेक्टिव पुट (Protective Put) खरीदना हमेशा बेहतर रहेगा।

192 views0 comments

Recent Posts

See All