शेयर बाजार में ऑप्शंस की कीमतें कैसे तय होती है?



अगर आपको भी बहुत लोगों की तरह गलतफहमी है की ऑप्शंस की कीमत स्टॉक एक्सचेंज या सेबी (SEBI) के द्वारा तय की जाती हैं, तो ये बिलकुल गलत है। वास्तव में, ऑप्शंस का मूल्य (Options Price) तय करना शेयर बाजार का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और बुनियादी घटक है। कमोडिटी की तरह, ऑप्शंस की कीमतें भी वित्तीय और गैर-वित्तीय कारकों से प्रभावित होती हैं।


ऑप्शंस का मुल्य (Options Price)

ऑप्शन का व्यापार/ट्रेड करने के लिए आपको प्रति शेयर जितनी राशि का भुगतान करना होता है उसको ऑप्शंस मूल्य (Options Price) कहते है । किसी भी ऑप्शन व्यापारी को सफल व्यापार करने के लिए ऑप्शन के मूल्य निर्धारण को समझना बहुत महत्वपूर्ण है। एक ऑप्शन की वास्तविक कीमत तब निर्धारित होती है जब आप उन सभी कारकों (फैक्टर्स) पर विचार करते हैं जो इसकी वास्तविक कीमत के लिए जिम्मेदार होते हैं। ऑप्शंस की कीमत उतार-चढ़ाव वाले मापदंडों से प्रभावित होती है। आइए इन प्रमुख प्रभावशाली कारकों (फैक्टर्स) पर चर्चा करें और वे ऑप्शंस की कीमतों को कैसे प्रभावित करते हैं यह देखे ।


मूलभूत पैरामीटर जो ऑप्शन की कीमतों को प्रभावित करते हैं

  • अंतर्निहित परिसंपत्ति (अंडरलाइंग एसेट) का स्पॉट प्राइस (Spot Price)

  • ऑप्शन का स्ट्राइक प्राइस (Strike Price )

  • अंडरलाइंग एसेट की कीमत की अस्थिरता (Volatility)

  • समाप्ति का समय (Time To Expiry)

  • ब्याज दर (Interest Rate)

  • लाभांश (Dividend)

स्पॉट प्राइस (Spot Price)

स्पॉट प्राइस अंडरलाइंग एसेट की कीमत है। ऑप्शंस की कीमतें उनकी अंडरलाइंग एसेट के मूल्य के आधार पर निकाली जाती हैं। स्पॉट मूल्य एक प्रमुख कारक है जो ऑप्शंस के मूल्य निर्धारण को प्रभावित करता है क्योंकि ऑप्शन के अंडरलाइंग साधन के वर्तमान मूल्य का कॉल या पुट ऑप्शन की कीमत पर सीधा प्रभाव पड़ता है।


यदि अंतर्निहित (Underlying) साधन का मूल्य बढ़ रहा है तो कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़ेगी और पुट ऑप्शन की कीमत घटेगी। यदि अंतर्निहित (Underlying) साधन की कीमत घटती है तो कॉल ऑप्शन की कीमत घट जाएगी और पुट ऑप्शन की कीमत बढ़ जाएगी।


स्ट्राइक प्राइस (Strike Price)

स्ट्राइक प्राइस वह कीमत है जिस पर किसी डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट का प्रयोग होने पर उसे खरीदा या बेचा जा सकता है। स्ट्राइक मूल्य की स्थिति परिसंपत्ति (Asset) की अंतर्निहित (Underlying) कीमत के सापेक्ष होती है और इसका ऑप्शन की कीमत पर प्रभाव पड़ता है क्योंकि यह सीधे एक ऑप्शन के आंतरिक मूल्य को प्रभावित करता है।


यदि अन्य सभी कारक स्थिर रहते हैं लेकिन ऑप्शंस का स्ट्राइक मूल्य बढ़ता है, तो कॉल ऑप्शन का प्रीमियम घट जाएगा और पुट ऑप्शन का प्रीमियम बढ़ जाएगा। दूसरी ओर, अन्य सभी कारकों के स्थिर रहने के साथ, ऑप्शन के स्ट्राइक मूल्य में कमी से कॉल ऑप्शन के प्रीमियम में वृद्धि होगी और पुट ऑप्शन के प्रीमियम में कमी आएगी।


अस्थिरता / वोलैटिलिटी (Volatility)

वोलैटिलिटी ऑप्शन कीमतों को प्रभावित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। दिन-प्रति-दिन स्टॉक की कीमतों में दर्ज अंतर को वोलैटिलिटी कहते है । यह अंडरलाइंग एसेट की कीमत में उतार-चढ़ाव है, या तो ऊपर या नीचे। यह कॉल और पुट ऑप्शन दोनों को समान रूप से प्रभावित करता है। अंडरलाइंग स्टॉक की अस्थिरता (Volatility) जितनी अधिक होगी, प्रीमियम उतना ही अधिक होगा क्योंकि इस बात की अधिक संभावना है कि कॉन्ट्रैक्ट पीरियड के दौरान ऑप्शन इन द मनी (ITM) में स्थानांतरित हो जाएगा। वोलैटिलिटी और ऑप्शन प्राइस के बारे में निचे दिया गया फार्मूला हमेशा याद रखे :

  • ज्यादा वोलैटिलिटी = ज्यादा प्रीमियम (कॉल और पुट ऑप्शन दोनों के लिए)

  • कम वोलैटिलिटी = कम प्रीमियम (कॉल और पुट ऑप्शन दोनों के लिए)

अगर वोलैटिलिटी बढ़ रही है तो कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़ेगी और पुट ऑप्शन की कीमत भी बढ़ेगी। अगर वोलैटिलिटी काम होती है तो कॉल ऑप्शन की कीमत और पुट ऑप्शन की कीमत घट जाएगी।


समाप्ति का समय (Time To Expiry)

ऑप्शंस की कीमतों पर "टाइम टू एक्सपायरी " फैक्टर का प्रभाव वोलैटिलिटी के समान ही होता है। ऑप्शन की परिपक्वता (Maturity) जितनी लंबी होगी, अनिश्चितता उतनी ही अधिक होगी और इसलिए प्रीमियम भी अधिक होगा। यदि किसी ऑप्शन की कीमत को प्रभावित करने वाले अन्य सभी कारक समान रहते हैं, तो समय बीतने के साथ ऑप्शन के प्रीमियम का समय मूल्य भाग कम हो जाएगा। इसे समय क्षय (Time Decay) के रूप में भी जाना जाता है। ऑप्शंस के इस गुन के कारण ऑप्शंस को 'वेस्टिंग एसेट' के रूप में जाना जाता है, जिसका समय मूल्य धीरे-धीरे शून्य हो जाता है।


अगर समय समाप्ति का अवधि बढ़ रहा है तो कॉल ऑप्शन की कीमत और पुट ऑप्शन की कीमत, दोनों बढ़ जाएंगी। अगर समय समाप्ति का अवधि कम हो जाता है तो कॉल ऑप्शन की कीमत और पुट ऑप्शन की कीमत दोनों घट जाएगी।


ब्याज दर (Interest Rate)

ब्याज दरें थोड़ी जटिल हैं क्योंकि वे अलग-अलग ऑप्शंस को अलग तरह से प्रभावित करती हैं। उदाहरण के लिए,फ्यूचर ऑप्शंस की तुलना में ब्याज दरों का व्यक्तिगत स्टॉक और इंडेक्स के ऑप्शंस पर अधिक प्रभाव पड़ता है।


इसे सरल तरीके से कहें तो, उच्च ब्याज दरों के परिणामस्वरूप कॉल ऑप्शन के मूल्य में वृद्धि होगी और पुट ऑप्शन के मूल्य में कमी आएगी। दूसरी ओर, कम ब्याज दरों के परिणामस्वरूप कॉल ऑप्शन के मूल्य में कमी और पुट विकल्प के मूल्य में वृद्धि होगी।


लाभांश/ डिविडेंड (Dividend)

एक ऑप्शन के सम्पूर्ण पीरियड के दौरान लाभांश/ डिविडेंड की घोषणा की स्थिति में, एक्सचेंज ऑप्शन की स्थिति को समायोजित (Adjust) करते हैं। जब स्टॉक ट्रेड करता है और फिर भी उसके धारक को कोई डिविडेंड नहीं मिलता है, तो स्थिति को एक्स-डिविडेंड कहा जाता है। सेबी (SEBI) के नियमों के अनुसार, यदि डिविडेंड का मूल्य, लाभांश की घोषणा की तारीख को, ऑप्शन के स्पॉट मूल्य के 10% से अधिक है, तो ऑप्शंस स्ट्राइक मूल्य पूर्व-डिविडेंड तिथियों पर डिविडेंड राशि से कम हो जाती है। स्पॉट मूल्य के 10% से कम घोषित लाभांश के लिए, एक्सचेंज द्वारा कोई समायोजन नहीं किया गया है। डिविडेंड की घोषणा कॉल ऑप्शन के मूल्य को घटाती है क्योंकि पूर्व-डिविडेंड की तिथि पर स्टॉक मूल्य घट जाता है, और पुट ऑप्शन के मूल्य में वृद्धि होती है।


निचे दी गयी इमेजेस से ऑप्शंस की कीमतों पर ऊपर दिए गए फैक्टर्स के प्रभावों का बेहतर अनुमान लगाया जा सकता है ।

इस प्रकार हमने ऑप्शन मूल्य के कीमत पर प्रभाव डालने वाले फैक्टर्स के बारे में विस्तृत चर्चा से जाना की इन में से किसी एक या सभी फैक्टर्स में परिवर्तन ऑप्शन के मूल्य को प्रभावित करते हैं। ये कारक (फैक्टर्स) सैद्धांतिक रूप से एक ऑप्शन को महत्व देते हैं। यह ऑप्शन ट्रेडर को उनके निवेश लक्ष्य के अनुसार निर्णय लेने में मदद करते है।ऑप्शंस ट्रेडिंग के बारे में महत्वपूर्ण सलाह के लिए आप हमारा Options Trading का ब्लॉग पढ़ सकते है।


554 views0 comments

Recent Posts

See All